महाकुम्भ की तैयारियों को लेकर मदन कौशिक केंद्रीय जल संसाधन विकास मंत्री गडकरी से मिले

देहरादून। नई दिल्ली स्थित परिवहन भवन में उत्तराखण्ड के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने केन्द्रीय जल संसाधन विकास मंत्री नितिन गडकरी सेे मुलाकात कर महाकुम्भ मेला 2021 से संबन्धित विभिन्न विषयों पर चर्चा की। नगर विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुज्जफर नगर हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग को जल्द पूर्ण करने के लिये सर्वोच्च प्राथमिकता रखी है। बैठक में मुजफ्फरनगर-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग के कार्योे में तेजी लाने के टेण्डर प्रक्रिया की अवधि 18 माह से कम करके 1 वर्ष करने के लिये सहमति व्यक्त किया गया। इससे सम्बन्धित कम्पनी को ब्लैक लिस्ट करने के बाद पुनः टेण्डर प्रक्रिया के निर्देश दिये गये थे। मुजफ्फरनगर-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग पर लालपुल के बराबर रेलवे पुल को कुम्भ की दृष्टि से  जल्द पूर्ण किया जायेगा। बैठक में कहा गया कि नजीबाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग के कार्यों में तेजी लाने एवं चण्डी पुल पर राजमार्ग के लिये पुल बनाने के कार्य में तेजी लाया जाएगा। हरिद्वार रिंग रोड़ में 3 फेज में कार्य होना है। कुम्भ की दृष्टि से दूसरे चरण के कार्य को सबसे पहले प्रारम्भ करने के लिये और इस मार्ग पर गंगा पुल बनाने के लिये  सहमति व्यक्त किया गया। इस संदर्भ में पुनः देहरादून में 27 अगस्त को अपर मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश की अध्यक्षता में राष्ट्रीय राजमार्ग की उच्च स्तरीय बैठक लेने का  निर्देश केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने दिया, और उन्होेनंे कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग के कार्यो की जानकारी अपर मुख्य सचिव की दी जाये। मदन कौशिक ने बैठक में बताया कि हिन्दुओं की आस्था से जुड़ा सर्वोत्तम समागम का पर्व कुम्भ मेला हरिद्वार में जनवरी, 2021 से अपै्रल, 2021 तक आयोजित होना है। कुम्भ मेला का आयोजन एक अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का आयोजन है, कुम्भ मेला-2010 के दौरान मेला की 04 माह की अवधि में लगभग 08 करोड़ राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर से श्रद्वालुओं का आगमन हुआ था। कुम्भ मेला, हरिद्वार में अखाडों द्वारा प्रतिभाग किये जाने से हरिद्वार कुम्भ में आने वाले राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर से श्रद्वालुओं की संख्या लगभग 16 करोड़ से अधिक रहने की सम्भावना है। कुम्भ मेला 2021 के दौरान मुख्य स्नान पर्वो के अवसरों पर वृहद रूप से विभिन्न राज्यों से करोड़ों की संख्या में श्रद्वालुओं का आवागमन होना सम्भावित है। हरिद्वार में होने वाले कुम्भ मेला में अधिकतर आवागमन एन0एच0-58, एन0एच0-73 तथा एन0एच0-74 से होता है। वर्तमान मंे उक्त समस्त राष्ट्रीय राज मार्गों पर 4 लेन कार्य, सड़क चैड़ीकरण तथा फ्लाईओवर आदि के निर्माण से सम्बन्धित कार्य गतिमान है।  मदन कौशिक ने बताया कि एन0एच0 58 से एन0एच0 74 के मध्य पर चण्डी चैराहे से चण्डी देवी मन्दिर तक दो लेन सेतु पूर्व से निर्मित है, सेतु की चैडाई काफी कम होने के कारण भारी भीड़ के दौरान वाहनों के आने जाने में पुलिस प्रशासन को कठिनाईओं का सामना करना पड़ता है। इसके लिये कुम्भ मेला 2021 के दृष्टिगत भारी संख्या नजीबाबाद की ओर से आने जाने वाले श्रद्वालुओं/यात्रियों के आने जाने पर हेतु उक्त सेतु च्ंतंससमस एक और सेतु का निर्माण कराया जाना अति-आवश्यक है। उन्होनें अनुरोध करते हुये बताया कि उत्तर प्रदेश राज्य में मुजफ्फरनगर से उत्तराखण्ड राज्य में हरिद्वार तक एन0एच0 58 पर कि0मी0 131.000(मुजफ्फरनगर जिले में सिसौना गांव) से कि0मी0 211.00(हरिद्वार में भुपतवाला) तक 80 कि0मी0 मार्ग चैड़ीकरण कार्य गतिमान है तथा उक्त मार्ग पर 15 नग सेतु निर्माण के कार्य गतिमान है, जिसके सापेक्ष 14 सेतु निर्माण कार्यों हेतु निविदा प्रक्रिया होने के उपरान्त कार्य आवंटन किया जाएगा, जिसके लिये टेण्डर प्रक्रिया तत्काल आरम्भ की जाये। 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *