मुख्य सचिव ने पर्यटन के क्षेत्र में किये जा रहे विकास कार्यों का निरीक्षण किया

देहरादून। जनपद पिथौरागढ़ के तहसील धारचूला के सीमान्त क्षेत्र ब्यास घाटी के भ्रमण पर पहुॅचे प्रदेश के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह द्वारा ब्यास घाटी क्षेत्र के 07 गांव बूंदी, गर्ब्याग, नपल्चू, गुंजी, नाबी, रोंगकांग एवं कुटी में संचालित विभिन्न योजनाओं के अतिरिक्त बी0आर0ओ0 द्वारा सीमान्त क्षेत्र में सड़क निर्माण कार्य व पर्यटन के क्षेत्र में किये जा रहे विकास कार्यो का निरीक्षण किया गया। इस दौरान उन्होने भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल गुंजी के सभागार में विभिन्न विभागों के अधिकारियों, सेना, अर्ध सैन्य बलों, बी0आर0ओ0 के अधिकारियों के साथ बैठक कर क्षेत्र में किये जा रहे कार्यो की जानकारी लेते हुए आवश्यक निर्देश दिये गये।  बैठक में जिलाधिकारी द्वारा ब्यास घाटी अन्तर्गत विभिन्न विभागों द्वारा किये जा रहे कार्यो के बारे में मुख्य सचिव को अवगत कराया। लोक निर्माण विभाग की समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव ने ग्राम सभा रोंगकांग में ग्रामीणों की सड़क सुविधा की मांग के अन्तर्गत अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग अस्कोट को निर्देश दिये कि वह शीघ्र ही रोंगकांग को सड़क सुविधा को जोड़े जाने हेतु कुटी नदी में मोटर पुल एवं गांव हेतु सड़क निर्माण के प्रस्ताव तैयार कर शासन को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। कैलाश मानसरोवर एवं आदि कैलाश यात्रा मार्ग में किये जा रहे कार्यो की जानकारी लेते हुये मुख्य सचिव ने विभाग को निर्देश दिये कि पैदल मार्ग में माईग्रेशन करने वाले स्थानीय निवासियों एवं यात्रियों व पर्यटकों को किसी प्रकार की समस्या न हो इस हेतु मार्ग के संवेदनशील स्थानों में सुरक्षा कार्य के साथ ही रेलिंग आदि का निर्माण किया जाय।मुख्य सचिव ने कहा कि पैदल यात्रा मार्ग में पर्यटकों को चलने में किसी भी प्रकार की असुविधा न हो इसका भी विशेष रूप से ध्यान रखा जाय साथ ही आवश्यक स्थानों में व्यू प्वाइंट तथा शौचालय का निर्माण भी किया जाय। इसके अतिरिक्त मुख्य सचिव ने दारमा एवं ब्यास घाटी को सड़क सड़क मार्ग से जोड़े जाने हेतु एक कार्ययोजना तैयार करने के भी निर्देश लो0नि0वि0 को दिये। बैठक में बी0आर0ओ0 से कमाण्डर कर्नल सोमेन्द्र बनर्जी द्वारा तवाघाट से लीपूपास तक तथा गुंजी से ज्योलिंगकांग तक निर्माणाधीन सड़क की प्रगति की जानकारी से मुख्य सचिव को अवगत कराया गया बैठक में मुख्य सचिव ने बी0आर0ओ0 को निर्देश दिये गये कि सड़क निर्माण के दौरा क्षेत्र के ग्रामीणों की जो भी भूमि सड़क कटिंग में आयी है उसका शीघ्र मुआवजा देने के साथ ही क्षतिग्रस्त पेयजल एवं सिंचाई नहर की मरम्मत का कार्य शीघ्रकरें।  उरेडा विभाग द्वारा क्षेत्र में किये जा रहे विद्युतिकरण कार्य की समीक्षा के दौरान विभिन्न परियोजनाओं में वर्ष 2010 से स्वीकृत परियोजना में वर्तमान तक कार्य पूर्ण न किये जाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुये जिलाधिकारी पिथौरागढ़ को निर्देश दिये कि वह सभी परियोजनाओं का निरीक्षण कराकर देरी के कारणों के सम्बन्ध में शासन को अवगत कराये साथ ही उन्होने परियोजना अधिकारी उरेडा को निर्देश दिये कि शीघ्र ही सभी परियोजनाओं में  कार्ये पूर्ण कर ग्रामीणों को विद्युत व्यवस्था मुहैया कराये। पेयजल निगम के कार्यो की समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव ने क्षेत्र में धीमी गति से किये जा रहे कार्यो पर नाराजगी व्यक्त करते हुये अधिशासी अभियंता पेयजल निगम डीडीहाट को निर्देश दिये कि 02 माह के अन्तर्गत पेयजल की जो भी समस्याऐं क्षेत्र की गांव में है उन्हें दूर करते हुये जिन योजनाओं में कार्य किया जा नहा है उन कार्यो को 02 माह के भीतर पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करें साथ ही आवश्यकतानुसार जिन गांवों में नये योजनाओं का निर्माण किया जाना है उनके भी प्रस्ताव तैयार कर उपलब्ध करें। पर्यटन विभाग की समीक्षा के दौरान क्षेत्र में होमस्टे को बढ़ाये जाने यात्रा मार्ग में यात्री सेडों का निर्माण किये जाने के साथ ही अन्य आवश्यक सुविधायें मुहैया कराये जाने के निर्देश पर्यटन विभाग को दिये गये। बैठक में आई0टी0बी0पी0, एस0एस0बी0, कस्टम के अधिकारियों द्वारा विभाग से सम्बन्धित जानकारी से मुख्य सचिव को अवगत कराया।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *