अखिल भारतीय ओबीसी महासभा- ओबीसी एससी एसटी अल्पसंख्यक संयुक्त संगठन उत्तराखण्ड ने चलाया सदस्यता जागरूकता अभियान

देहरादून: (देवभूमि जनसंवाद न्यूज़) अखिल भारतीय ओबीसी महासभा- ओबीसी एससी एसटी अल्पसंख्यक संयुक्त संगठन उत्तराखण्ड ने सदस्यता जागरूकता अभियान के तहद ढाकी, नियर रेडापुर, सहसपुर में देहरादून ऐ अंतर्गत एक मिटींग का आयोजन किया. इस मिटींग की अध्यक्षता शाहिनबानो जी ने किया. मिटींग की शुरुआत परिचय से आरम्भ किया गया. इस मिटींग में शाहिनबानो जी ने अपना विचार रखते हुए कहा कि यह सामाजिक संगठन है सरकार द्वारा दी जाने योजनाओं को गरिबों तक कैसे पहंचे और उनके बारे में अवगत कराना यह गतिविधियां चलाते रहते हैं. सरकार द्वारा करोना बिमारी से मृत्यु हुए परिजनों के लिए रहत अनुदान आया है इसके फार्म भरे जा रहे हैं यह फार्म भरकर जमा कर दें. मजदूर कार्ड, आयुषमान कार्ड के बारे में भी जानकारी दी. संगठन के महासचिव महिला मोर्चा अनिता राना जी ने बताया कि संगठन के तरफ छोटे छोटे स्वरोजगार भी मुहैया कराया जाता है, इसके लिए स्वयंग सहायता समूह से लोन लेकर महिलायें अपना काम शुरू कर सकतीं हैं. संगठन के तरफ़ से फिनायल बनाने का भी काम कराया जाता है, इसके अलावा भी बहुत सारे काम है यदि महिलायें करना चाहती हैं तो अपना रोजगार शुरू कर सकतीं हैं. संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राम बचन राजभर जी ने कहा कि गरिब आदमी तक सरकार की योजनाओं का लाभ नहीं पहुंच पाता है सिर्फ कागजों में घोषणाएं दफन होकर रह जाती हैं. अपने हक अधिकार लिए आप सभी को संगठित होकर आवाज उठानी पडेगी. सरकार सभी नितियां सिर्फ घोषणाओं तक सीमित रह जाती हैं, ओबीसी की जनगणना कराने से सरकार ने मना कर दिया, इसके लिए संगठित होकर आवाज उठानी है. निजिकरण करके, सरकारी संस्थाओं को बेचकर इनडायरेक्ट रूप से आरक्षण को समाप्त किया जा रहा है. मंहगाई चरम सीमा है, पुरा देश के पढा लिखा युवा आज बेरोजगारी से जूझ रहा है. देश की जनता किसी न किसी पिडा के कारण आज सड़क पर आंदोलन करने के लिए मजबूर है. उत्तराखंड की बिडम्बना है कि जाती प़माण पत्र व स्थाई निवास प़माण पत्र गरीब आदमी का नहीं बन पा रहा है क्योंकि उसके नाम से कोई जमीन दस्तावेज कागज नहीं  है. जब चुनाव आता है तो सरकार जुमला फेंक देती है कि जो जहाँ बैठा है उसको जमीन का मलिकाना हक दिया जायेगा लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण चुनाव खत्म हो जाता है और वह मात्र जुमला बनकर घोषणायें रह जाती हैं. चुनाव के बाद सरकार अपना खेल शुरू करती है बुलडोजर चलाने का यानि चारोतरफ से गरीब ही पिसा जाता है. इस मौके पर हक अधिकार के लिए एक विडियो बनाकर वायरल किया गया. इस मोके पर शाहिनबानो जी को महिला मोर्चा ओबीसी अल्पसंख्यक का प्रदेश अध्यक्ष उत्तराखण्ड की नियुक्ति पत्र देकर जिम्मेदारी सौंपा गया. इस मौके पर संगठन के महिला मोर्चा के महासचिव निरा कश्यप जी करतारी जी अन्य महिलायें तथा सदस्य गण उपस्थित थे. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *