भारतीय वानिकी एवं शिक्षा परिषद के महानिदेशक अरूण सिंह रावत द्वारा ‘मेलिया डबिया में आधुनिक अनुसंधान’ पुस्तक का हुआ विमोचन

देहरादून: (देवभूमि जनसंवाद न्यूज़) भारतीय वानिकी एवं शिक्षा परिषद के महानिदेशक अरूण सिंह रावत द्वारा ‘मेलिया डबिया में आधुनिक अनुसंधान’ पुस्तक का विमोचन किया गया। यह पेड़ ड्रैक या गोरा नीम के नाम में जाना जाता है तथा एक स्वदेशी-छोटी आवर्तन-बहुउद्देशीय पेड़ की प्रजाति है। इसमें औद्योगिक और घरेलू लकड़ी की आवश्यकताओं को पूरा करने की क्षमता है। महानिदेशक ने खुशी जताई कि स्वदेशी पेड़ की प्रजाति पर एक काफी व्यापक पुस्तक लिखी गई है। पुस्तक विशुद्ध रूप से आईसीएफआरई द्वारा वित्त पोषित एक दीर्घकालिक बहुआयामी और व्यवस्थित अनुसंधान कार्यक्रमो के माध्यम से वैज्ञानिकों के प्रयोगों और अनुभव के परिणामों पर आधारित है। यह पेड़ भारत के पूर्वी, उत्तर-पूर्वी और दक्षिणी हिस्सों का मूल निवासी है तथा समुद्र तल से 1800 मीटर तक अलग-अलग मिट्टी और पर्यावरणीय परिस्थितियों में अच्छी तरह से पनपता है। पर्णपाती पेड़ मिट्टी के पुनर्वास में काफी योगदान देता है और साल दर साल मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार लाता है।
व्यवस्थित अनुसंधान कार्यक्रम के तहत आईसीएफआरई ने उत्तरी भारत में व्यावसायिक खेती के लिए दस किस्मों को जारी किया गया है। वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून ने प्रसिद्ध निजी कंपनी आईटीसी के साथ इन उत्पादक किस्मों के वाणिज्यिक प्रवर्धन के लिए हस्ताक्षरित लाइसेंस समझौता किया है। जंगलों से बाहर कृषि वानिकी के तहत लगाए गए पेड़ लकड़ी आधारित उद्योगों को कच्चे माल की आपूर्ति का एकमात्र स्रोत हैं। इसलिए मेलिया डबिया को औद्योगिक और घरेलू लकड़ी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक उपयुक्त स्वदेशी वृक्ष के रूप में अनुशंसित किया गया है। यह भी एक तथ्य है कि भारत हर साल विभिन्न देशों से लिबास मुखावरण का आयात करता है। एग्रोफोरेस्ट्री के तहत इस प्रजाति को बढ़ावा देने से इस बोझ को काफी हद तक कम करने में मदद मिलेगी। किसानों को उच्च उत्पादकता के कारण बढ़ी हुई आय प्राप्त होगी तथा लकड़ी आधारित उद्योगों के लिए गुणवत्ता वाले कच्चे माल की उपलब्धता सुनिश्चित होगी।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *