मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत यात्रा ने पार किया पहला पड़ाव: सत्ता के गलियारे का

देहरादून: सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के बाद इसी मार्च में तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री का पद संभाला और अब अपने कार्यकाल के दो महीने पूरे होने से पहले ही पहली अग्निपरीक्षा में कामयाबी हासिल कर ली। सल्ट विधानसभा सीट के उप चुनाव के नतीजे से भले ही सीटों के गणित पर कोई असर नहीं पड़ना, मगर भाजपा के लिए यह उप चुनाव साख का सवाल बन गया था। खासकर नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के लिए, क्योंकि उनके नेतृत्व में लड़ा गया यह पहला चुनाव था। सत्तारूढ़ भाजपा के लिए इसलिए भी उप चुनाव के नतीजे की अहमियत ज्यादा है, क्योंकि इसे इस बात का संकेत माना जा सकता है कि पार्टी के खिलाफ फिलहाल तो एंटी इनकंबेंसी फैक्टर काम नहीं कर रहा है। वैसे, आगामी विधानसभा चुनाव से पहले तीरथ को खुद भी उप चुनाव लड़ना है, विधायक बनने के लिए। अभी तीरथ पौड़ी गढ़वाल सीट से सांसद हैं।

भाजपा सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के बाद सत्ता संभालने पर नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने एक बढिय़ा पहल की। दरअसल, उन्होंने कोरोना के बढ़ते मामलों पर सबको साथ लेकर चलने की मंशा जताते हुए सर्वदलीय बैठक बुलाई। ऐसा नहीं कि इससे पहले कभी सर्वदलीय बैठक नहीं हुई। कई बार हुई, हर साल कम से कम दो बार तो होती ही है, मगर केवल विधानसभा सत्र से पहले। यह पहला अवसर रहा, जब इससे इतर मुख्यमंत्री ने अलग-अलग राजनीतिक दलों के नेताओं को मंथन के लिए आमंत्रित किया। यह बैठक वर्चुअल हुई, सभी ने अपने सुझाव दिए कि किस तरह कोरोना से पार पाया जा सकता है। अभी बैठक हुए चंद ही घंटे गुजरे कि सरकार पर विफलता का आरोप मढ़ते हुए हमले शुरू हो गए। लाजिमी तौर पर इसकी शुरुआत भी कांग्रेस की ही तरफ से हुई। आखिर मुख्य विपक्षी दल जो है, कैसे भला अपनी भूमिका बिसरा दे।

मुखिया ने मोर्चे पर तैनात किए महारथी

पिछले साल कोरोना के मामलों को लेकर उत्तराखंड कुछ राहत में रहा, मगर अब दूसरी लहर में संक्रमण की गति काफी तेज है। रोजाना पांच हजार से ज्यादा मामलों ने सरकार के समक्ष बड़ी चुनौती ला खड़ी की है। यही वजह रही कि पहले नौकरशाही को जिम्मा सौंप चुके मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को अंतत: अपने मंत्रियों को मोर्चे पर तैनात करने का निर्णय लेना पड़ा। सभी मंत्रियों को अलग-अलग जिलों का जिम्मा सौंपा गया है। मंत्रियों ने जिम्मेदारी संभाल भी ली है। जिलों में मंत्री सरकारी मशीनरी के साथ तालमेल बिठाकर हालात को काबू करने की कोशिशों में जुटे हैं। सूबे में अब चंद महीनों बाद ही विधानसभा चुनाव हैं। इस लिहाज से देखा जाए तो मंत्रियों को कोरोना पर नियंत्रण को लेकर चुनावी साल में अग्निपरीक्षा से गुजरना पड़ रहा है। वैसे, सभी यही दुआ कर रहे हैं कि मंत्री जल्द से जल्द यह परीक्षा पास कर लें।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *