कोविड-19 के दौरान वरिष्ठ नागरिकों की मदद करने और उनका खयाल रखने के लिए लोगों को प्रेरित करने के लिए टाटा टी की विशेष पहल

नई दिल्ली | पिछले कई सालों से ‘जागो रे’ अभियान के जरिए सामाजिक जागरूकता का कार्य किया जा रहा है। समय की जरुरत के अनुसार समाज में वास्तविक परिवर्तन लाने के लिए टाटा टी ने कई बार ‘जागो रे’ अभियान का उपयोग किया है। कोविड-19 की असाधारण आपत्ति और देश भर में आगे बढ़ाए गए लॉकडाउन की वजह से वरिष्ठ नागरिकों को सहनी पड़ रही समस्याओं के बारे में जागरूकता निर्माण करने और उनकी मदद की जाए इसके लिए सामाजिक बदलाव लाने के लिए यह अभियान चलाने की घोषणा टाटा टी ने की है।  इस आपत्ति से जिन्हें सबसे बड़ा खतरा है उन वरिष्ठ नागरिकों की मदद के लिए टाटा टी ने ‘इस बार #बड़ोंकेलिए #जागोरे’ का आवाहन किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन और स्वास्थ्य विशेषज्ञों से मिली जानकारी के अनुसार वरिष्ठ नागरिकों में उम्र की वजह से प्रतिरक्षा शक्ति कम होती है और इसलिए नोवेल करोना रोगाणु संक्रमण का सबसे बड़ा खतरा उन्हें है।  हमारे सम्माननीय प्रधानमंत्री जी ने भी अपने भाषण में 7 सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों में ‘बड़ों का खास ख़याल रखने’ का अनुरोध किया है। ‘इस बार #बड़ोंकेलिए #जागोरे’ अभियान के बारे में टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के भारत और मध्य पूर्व के प्रेसिडेंट – बेवरेजेस श्री. सुशांत दाश ने बताया, “हमारे ‘जागो रे’ अभियान ने हमेशा समय-समय के सामाजिक मुद्दों को लेकर समाज में वास्तविक परिवर्तन हो इसलिए सक्रीय होने के लिए लोगों को प्रेरित किया है। इस अभियान का उपयोग हम लोगों के जीवन में वास्तविक परिवर्तन लाने के लिए करते आ रहे हैं और इस बार भी हमारा वही प्रयास है। वर्तमान स्थिति में वरिष्ठ नागरिकों की मदद करना जरुरी है यह सोच लोगों में निर्माण करके उसके लिए क्या किया जा सकता है इसके टिप्स हम ‘जागो रे’ अभियान के जरिए देंगे, इसमें स्वयंसेवी संस्थान भी शामिल होंगे, लोगों को एक साथ जोड़ने के लिए एक प्लेटफार्म मुहैया कराया जाएगा।  इस प्लेटफार्म पर हमारे स्वयंसेवक उनके अनुभवों को सांझा करेंगे जिससे अन्य लोगों को भी आगे आने की प्रेरणा मिलेगी।”    टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के वाईस प्रेसिडेंट मार्केटिंग, बेवरेजेस – भारत श्री. पुनीत दास ने कहा, “वर्तमान स्थिति में वरिष्ठ नागरिकों के सामान्य जीवन में कई बाधाएं आ रही हैं, इससे उनके जीवन में उलझनें और असहायता की स्थिति निर्माण हो सकती है। ऐसे में उनकी मेडिकल, मानसिक और सामाजिक जरूरतों को समझना और उन्हें पूरा करना बहुत आवश्यक है। उन्हें किन चीजों की जरुरत है इसके बारे में पूछताछ करने और जरुरी मदद करने जैसे छोटे कदम भी बहुत बड़ा परिवर्तन ला सकते हैं।  यह करते हुए कोविड-19 के बारे में स्थानीय प्रशासन द्वारा दिए गए सभी नियमों और निर्देशों का पालन करना अनिवार्य है।  आज तक जिनकी उंगली पकड़कर हम आगे बढे, जिन्होंने हमारी रक्षा की उन ‘बड़ों’ के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का यही समय है।  उनकी मदद के लिए उठाया आपका हर एक कदम बहुत महत्वपूर्ण साबित होगा।  इसीलिए हम आप सभी से आवाहन करते हैं कि इस अभियान में शामिल हो जाइए और ‘इस बार #बड़ोंकेलिए #जागोरे’ के साथ मिलकर परिवर्तन के दूत बनिए।”  सीनियर केयर मैनेजमेंट में कार्यरत इन्फ्लुएंसर्स, एनजीओ और विशेषज्ञों ने भी इस अभियान का समर्थन किया है।  बड़ों की मदद करने के बारे में मार्गदर्शक सूचनाओं, स्वयंसेवी संस्थानों के साथ जुड़ने और बड़ों की मदद करने के अपने संकल्प को दर्ज करने के लिए कृपया यहां लॉग ऑन करें: https://www.jaagore.com/

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *