राजस्थान सरकार जनकल्याण के काम करने में कोई कमी नहीं रखेगी: गहलोत

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार जनकल्याण के काम करने में कोई कमी नहीं रखेगी और इस संबंध में सदन में आने वाले जनहित के सुझावों को भी ध्यान में रखा जाएगा। राज्य विधानसभा ने विनियोग व वित्त विधेयकों को मुखबंद से पारित कर दिया। गहलोत ने इन विधेयकों पर चर्चा के दौरान आए सुझावों का जिक्र करते हुए सदस्यों से कहा, ‘आप निश्चित रहें सदन की जो भावना होगी, सदस्यों के जो सुझाव राज्यहित में हैं जनहित में है व जनकल्याणकारी योजनाओं का समर्थन करते हैं हम लोग कमी नहीं रखेंगे काम करने में।’ उन्होंने कहा कि इतिहास रहा है हम लोगों का… पिछली बार भी जब हमारी सरकार थी तो जो कहा करके दिखाया। हालांकि, वह आपको रेवड़ियां लगी थीं। रेवड़ियां बंट रही हैं राजस्थान के अंदर। वे रेवड़ियां नहीं थीं वे जनकल्याण के काम थे।
इसके साथ ही गहलोत ने तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा अपने संशोधित बजट भाषण2014-15 में उन्हें ‘लापरवाह मुखिया’ बताए जाने पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि वसुंधरा राजे ने उनके पूर्व कार्यकाल 2008-13 पर टिप्पणी करते हुए 2014-15 में अपने संशोधित बजट में उनके बारे में सदन में कहा, ‘‘अफसोस की बात है कि इतना कर्ज लेकर भी इसको प्रॉडक्टिव कैपिटल एक्सपेंडीचर पर नहीं लगाया बल्कि परिवार के एक लापरवाह मुखिया की तरह केवल राजस्व खर्चे बढ़ाने पर खर्च किया गया।’’ गहलोत ने कहा कि पिछले कार्यकाल में उनकी सरकार ने पूंजीगत व्यय पर 91.3 प्रतिशत राशि खर्च की जबकि वसुंधरा राजे सरकार में यह केवल 53.91 प्रतिशत रहा। उन्होंने ने कहा, ‘मैं पूछना चाहूंगा कि बताइए परिवार का कौन सा मुखिया लापरवाह है या था। समझ सकते हो आप। यह आंकड़े हैं मैं अपनी तरफ से नहीं बोल रहा हूं। 91 प्रतिशत हम खर्च कर रहे हैं और वह कह रह थीं लापरवाह मुखिया…लापरवाह मुखिया के रूप में तो वह सिद्ध हुई हैं और वे मुझे जिम्मेदार ठहरा रही थीं।’
इसके साथ ही गहलोत ने कई नयी घोषणाएं भी कीं। उन्होंने कहा, ‘‘दौसा जिले के बांदीकुई सिकंदरा, अलवर जिले के बहरोड़ लक्ष्मणगढ, जोधपुर के तिवरी मथानिया, हितमसर तहसील एवं जिला झुंझुनू प्रतापगढ़ और हनुमानगढ़ जिला मुख्यालयों में नवीन कन्या महाविद्यालय खोले जाएंगे। भिवाड़ी में बाबा मोहन राव किसान महाविद्यालय को राजकीय महाविद्यालय घोषित किया जाएगा।’’ गहलोत ने कहा कि राजसमंद के रेलमगरा, जयपुर के जमवारामगढ, बांरा के शाहबाद और नागौर के नांवा कस्बे में नवीन महाविद्यालय खोले जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य के सात राजकीय महाविद्यालयों पोकरण-जैसलमेर,एवं जैसलमेर मुख्यालय, कांमा भरतपुर, ब्यावर अजमेर, राजकीय महाविद्यालय नागौर, कन्या महाविद्यालय नागौर,मांगड महाविद्यालय, डीडवाना में उर्दू साहित्य विषय प्रारंभ किया जायेगा।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *