AAP बनी ट्रोल मास्टर, चुल्लू भर पानी में डूब जाएं केजरीवाल

दिल्ली समेत उत्तर भारत में फैली धुंध से हाहाकार मचा हुआ है और इसको लेकर बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप में लगी है। लेकिन आज सुबह से ट्वीटर पर क्रिकेटर से राजनेता बने गौतम गंभीर ट्रेंड कर रहे हैं। इसके पीछे की वजह दिल्ली का प्रदूषण ही है। दरअसल, शहरी विकास मंत्रालय की संसदीय स्टैंडिंग कमेटी ने प्रदूषण के मसले पर बैठक बुलाई थी। गौतम गंभीर पूर्वी दिल्ली से सांसद हैं और उन्हें भी इस बैठक में हिस्सा लेना था। लेकिन गौतम गंभीर इंदौर टेस्ट में कमेंट्री कर रहे हैं और ऐसे में वह इस मीटिंग में शामिल नहीं हुए। इसके बाद सोशल मीडिया पर गौतम गंभीर को लेकर मिली जुली प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है और ट्वीटर पर 23 हजार से ज्यादा ट्वीट गौतम गंभीर को लेकर किए गए। जिसके बाद बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने गंभीर के समर्थन में एक वीडियो जारी किया और केजरीवाल सरकार को निशाने पर लिया। तिवारी ने कहा कि हर साल 70 हजार करोड़ का बजट लेकर दिल्ली के कल्याण की जिम्मेदारी लेने वाले अरविंद केजरीवाल अपनी पराजय मान चुके हैं। वो मान चुके हैं कि हम कुछ नहीं कर सकते हैं। अगर सांसद को ही सबकुछ करना है तो अरविंद केजरीवाल को चुल्लू भर पानी में डूब जाना चाहिए। मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल को अपना 70 हजार करोड़ का बजट सांसदों को दे देना चाहिए। तिवारी ने दिल्ली सरकार से पूछा कि वो बताएं कि पिछले पांच सालों में 3 लाख करोड़ रुपया कहां खर्च किया। तिवारी ने गौतम गंभीर का बचाव करते हुए कहा कि आप आज एक पार्लियामेंट्री कमेटी की मिटिंग में एक सांसद के उपस्थित न होने को ट्रोल कर रहे हो। आम आदमी पार्टी को अब ट्रोल मास्टर ही कहा जा रहा है। मनोज तिवारी ने सवाल पूछा कि भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले एमसीडी की गाड़ियां सड़कों पर धूल मारने के लिए पानी का छिड़काव कर रही है। अरविंद केजरीवाल जी आप क्या कर रहे हैं? एमसीडी केंद्र सरकार से 100 करोड़ रुपया लाकर कूड़े के पहाड़ भलस्वा, ओखला और गाजीपुर तीनों को डेढ़ साल में समाप्त करने का उपक्रम शुरु कर चुकी है। ईस्टर्न-वेस्टर्न पेरिफेरल रोड बनाकर केंद्र सरकार ने 15 लाख ट्रकों को हर महीने दिल्ली से बाहर कर दिया। एनएच 24, एयरपोर्ट का रास्ता और हाइवे बनाकर ट्रैफिक कन्जेशन को कम करने का काम किया। 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *