बोल्डर की चपेट में आने से आठ यात्रियों की मौत, दो लापता

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा मार्ग पर एक कार और दो बाइकें पहाड़ी से गिरे बोल्डर और मलबे की चपेट में आ गई। दो बाइकों पर सवार पांच यात्रियों की मौत हो गई, जबकि दो लोग लापता बताए जा रहे हैं। भारी-भरकम बोल्डर के साथ कार 400 मीटर गहरी खाई में समा गई, उसमें कितने लोग सवार थे, अभी कुछ पता नहीं चल पाया। दो लोगों के कार में सवार होने का अनुमान लगाया जा रहा है। रेस्क्यू दल लापता यात्रियों की खोजबीन में जुटा हुआ है। हादसे में मरने वालों की संख्या अधिक हो सकती है। रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय करीब 60 किलोमीटर दूर केदारनाथ मार्ग पर चंडिकाधार के पास शनिवार रात यह हादसा हुआ। गौरीकुंड जाने वाले हाईवे पर फाटा से करीब चार किलोमीटर आगे अचानक पहाड़ी से भारी-भरकम बोल्डर और मलबा हाईवे पर गिरने लगा। वहां से गुजर रहे वाहन चालक कुछ समझ पाते तब तक कुछ वाहन बोल्डर और मलबे की चपेट में आ गए। फिलहाल दो बाइक और एक कार के दुर्घटनाग्रस्त होने का पता चला है। घटना का पता चलने पर कुछ यात्रियों ने निकटवर्ती गुप्तकाशी थाने की पुलिस की इत्तिला किया। कुछ देर बाद गुप्तकाशी के थानाध्यक्ष होशियार सिंह पंखुरी रेस्क्यू टीम के साथ मौके पर पहुंचे। थोड़ी ही देर बाद राज्य आपदा प्रतिवादन बल की टीम भी वहां पहुंच गई। थानेदार और जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी हरीश चंद्र ने बताया कि पता चला कि दो बाइकों पर पांच यात्री सवार थे। सभी की मौत हो गई। उनके शव भी बरामद कर लिए गए हैं, जबकि उनके दो साथी लापता है। मलबे के साथ कार खाई में समा गई । दो लोगों के इसमें होने को अनुमान लगाया जा रहा है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी ने बताया कि लापता लोगों की खोजबीन की जा रही है। थानेदार ने बताया कि मृतकों में एक की शिनाख्त सुखजीत शर्मा पुत्र ललित शर्मा निवासी ऋषिकेश के रूप में हुई है। बाकी अन्य की शिनाख्त नहीं हो पाई है। इसके प्रयास किए जा रहे हैं। गौरीकुंड हाईवे पर चंडिकाधार स्लाइडिंग जोन पिछले कई समय से काफी खतरनाक स्थिति में है। ऑलवेदर प्रोजेक्ट के तहत यहां पर हाईवे की कटिंग कार्य की जा रही है, इसकी वजह से यहां खतरा और भी बढ़ गया है। आए दिन पहाड़ी से बोल्डर व मलब गिरने की वजह से हर वक्त दुर्घटना का खतरा बना रहता है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *