यूकेडी का अधिवेशन 14 अगस्त को आयोजित होगा

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल के सर्वोच्च विशेषाधिकार समिति की बैठक में तय किया गया है कि यह वर्ष दल के संस्थापक अध्यक्ष डीडी पंत का जन्म शताब्दी वर्ष के रूप में मनाई जाएगी। दल का अधिवेशन का आयोजन उनकी जन्म तिथि 14 अगस्त को किया जा रहा। दल के सर्वोच्च विशेषाधिकार समिति के अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी ने कहा कि डाॅ. डीडी पंत एक वैज्ञानिक होने के अलावा संवेदनशील समाजशास्त्री और हिमालयी पारिस्थितिकी के अध्येता थे। उन्होंने प्रकृति को हमेशा सहेजकर रखने की वकालत की। उनका मानना था कि प्रकृति किसी को मुफ्त में कुछ नहीं देती। इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। इसलिये वे प्रकृति के अवैज्ञानिक दोहन के खिलाफ थे। वे गांधी की विचारधारा से प्रभावित थे इसलिये उनके दर्शन में गांव और आम आदमी प्रमुख थे। विकास को भी इसी दृष्टि से देखते थे। उन्होंने सत्तर के दशक मे एक बात कही- ‘पहाड़ का पानी और पहाड़ की जवानी उसके काम नहीं आती।’ यह आज भले ही देश के प्रधानमंत्री के भाषणों को प्रभावी बनाने का काम आता हो, लेकिन इसके पीछे हिमालय के गांवों की चिंता थी। गांव के बसने और उनके बचे रहने का दर्शन भी था। उन्होंने पृथक उत्तराखंड राज्य की स्थापना के लिये 24-25 जुलाई, 1979 में मसूरी में ‘उत्तराखंड क्रांति दल’ की स्थापना की। इसके पीछे भी उनकी व्यापक दृष्टि थी। वे सीमान्त हिमालयी क्षेत्रों के विकास को दोहन नहीं, बल्कि वैज्ञानिक तरीके से यहां की जरूरतों के मुताबिक नीति बनाने की वकालत करते थे। ऐसे समय में जब उत्तराखंड में जल, जंगल और जमीनों का अपने हितों के लिये बेहताशा दोहन हो रहा है। लगातार जनता के खिलाफ नीतियां बन रही हैं। सरकारी स्कूल, तकनीकी संस्थान बंद किये जा रहे हैं, अस्पतालों को पीपी मोड पर दिया जा रहा हो, जमीनों के बेचने के कानून पास किये जा रहे हों, पंचेश्वर जैसे विनाशकारी बांध बनाने की योजना हो, ऑल बेदर के नाम पर पहाड़ों को छीला जा रहा हो, घर-घर शराब पहुंचाने का काम व्यवस्था कर रही हो, वहीं एनआईटी श्रीनगर को सिफ्ट किया जा रहा है साथ ही काशी सिंह ऐरी ने कहा कि सरकार द्वारा थोपा गया हुआ जिला विकास प्राधिकरण को तत्काल भंग किया जाय। साथ ही उत्तराखंड में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव में पंचायत स्तर पर कार्यकर्ताओं की बैठक जल्दी ही करने के दिशा निर्देश दिए हैं। बैठक में दल केन्द्रीय अध्यक्ष दिवाकर भट्ट, बीडी रतूड़ी, टीएस पंवार, पुष्पेश त्रिपाठी, हरीश पाठक, पंकज व्यास, जिला अध्यक्ष विजय बौड़ाई, डीके पाल, हरिद्वार जिला अध्यक्ष राकेश राजपूत, दीपक गैनियाल, ब्रजवीर चैधरी उपस्थित थे।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *